विदेश से MBBS करने के लिए नहीं देनी होगी NEET

विदेश से डॉक्टरी की पढ़ाई करने वाले युवाओं के लिए अच्छी खबर है। अब एक बार नीट पास करने पर तीन साल तक वे विदेश के मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश ले सकते हैं।

विदेश से डॉक्टरी की पढ़ाई करने वाले युवाओं के लिए अच्छी खबर है। अब एक बार नीट पास करने पर तीन साल तक वे विदेश के मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश ले सकते हैं।

विदेश से डॉक्टरी की पढ़ाई करने वाले युवाओं के लिए अच्छी खबर है। अब एक बार नीट पास करने पर तीन साल तक वे विदेश के मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश ले सकते हैं। अब युवाओं को तीन साल तक हर बार नीट देने की आवश्यकता नहीं रहेगी। इस संबंध में भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद के महासचिव डॉ. आरके वत्स ने अधिसूचना जारी की है। इससे पहले उसी साल दाखिला लेने की छूट रहती थी। लगातार विद्यार्थियों की मांग पर भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद ने अधिनियम में बदलाव किया है। इससे पहले विदेश में डॉक्टरी की पढ़ाई के लिए नीट परीक्षा अनिवार्य नहीं थी, लेकिन लगातार विदेश जाने वाले विद्यार्थियों की संख्या में इजाफा होने पर यह बदलाव हुआ था। हालांकि दिल्ली उच्च न्यायालय ने कुछ विद्यार्थियों को इस साल बिना नीट के विदेश जाने की छूट दी थी। वहीं दूसरी तरफ देश के मेडिकल कॉलेजों में दाखिले के लिए नीट एक साल ही लागू रहेगी। यहां के मेडिकल कॉलेजों में दाखिला नहीं मिलने पर दोबारा नीट परीक्षा देनी होगी

Advertisements

अप्रेल जेईई-मेन की परीक्षा से पहले पढ़ लें

जेईई-मेन अप्रेल परीक्षा 7 से 12 अप्रैल के मध्य 10 शिफ्टों में होने जा रही है। यह परीक्षा प्रत्येक दिन दो शिफ्टों में सुबह 9.30 से 12.30 एवं दोपहर 2.30 से 5.30 तक देश के 273 शहरों में एवं विदेश के 09 शहरों में संपन्न होगी, जिसमें दस लाख से ज्यादा विद्यार्थियों के शामिल होने की संभावना है। जारी किए गए प्रवेश पत्र में विद्यार्थी को एक दिन पूर्व अपने परीक्षा केन्द्र को देखने की सलाह दी गई है। विद्यार्थी परीक्षा प्रारंभ होने के 2 घंटे पूर्व रिपोर्ट कर सकता है, साथ ही परीक्षा प्रारंभ होने से आधा घंटे पहले परीक्षा केन्द्रों में प्रवेश रोक दिया जाएगा।
विद्यार्थी को आवेदन के दौरान लगाए गए, एक फोटोग्राफ के साथ-साथ एक आईडी प्रुफ जैसे कि पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आइडी, पासपोर्ट, आधार कार्ड, राशन कार्ड में से किसी भी एक फोटो आईडी प्रुफ लाने के निर्देश दिए गए हैं। शारीरिक विकलांग विद्यार्थियों को अपना विकलांगता प्रमाण पत्र साथ में ले जाना होगा। विद्यार्थियों को परीक्षा हाल में कोई भी इलेक्ट्रोनिक डिवाइस ले जाने की अनुमति नहीं होगी। विद्यार्थियों को परीक्षा हाल में ही पेन पेंसिल व रफ कार्य हेतु शीट दी जाएगी। विद्यार्थी दी गई शीट पर अपना नाम, रोल नम्बर लिखकर ही उसका उपयोग कर सकेगा। अंत में परीक्षा समाप्त होने पर यह शीट परीक्षक को पुनः लौटानी होगी।
परीक्षा के दौरान विद्यार्थी का फोटो, हस्ताक्षर एवं अंगूठे के निशान दी गई अटेंडेंस शीट पर लिया जाएगा। विद्यार्थी परीक्षा प्रारंभ होने से पहले अपनी सीट ग्रहण कर दिए गए कम्प्यूटर पर लाॅगिन कर परीक्षा से संबंधित निर्देश पढ़ सकता है। जेईई-मेन अप्रेल का परीक्षा परिणाम 30 अप्रेल को घोषित किया जाएगा, जिसमें विद्यार्थियों के जनवरी व अप्रेल दोनों परीक्षाओं में से उच्चतम एनटीए स्कोर के आधार पर जेईई-मेन की आॅल इंडिया रैंक एवं एडवांस्ड देने की पात्रता घोषित होगी।

जेईई मेन द्वारा शीर्ष 2.45 लाख स्टूडेंट्स को एडवांस्ड देने का मौका

27 मई को आईआईटी रूडकी द्वारा आयोजित करवाई जा रही जेईई-एडवांस्ड परीक्षा दो पारियों में संपन्न होगी। इस परीक्षा द्वारा 23 आईआईटी की 11279 सीटों पर प्रवेश मिलता है। इस वर्ष प्रथम बार जेईई-मेन एनटीए स्कोर के आधार पर सभी कैटेगिरी मिलाकर शीर्ष 2 लाख 45 हजार विद्यार्थियों को एडवांस्ड परीक्षा के लिए पात्र घोषित किया जाएगा, जबकि गत वर्ष 2 लाख 24 हजार विद्यार्थियों को ही योग्य घोषित किया था। इस वर्ष यह संख्या 21 हजार अधिक है।

एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के कॅरियर एक्सपर्ट अमित आहूजा ने बताया कि अप्रेल आवेदन के दौरान जिन विद्यार्थियों ने गलती से दिए गए दोनों विकल्पों द्वारा दो आवेदन कर दिए थे और उनकी जनवरी व अप्रेल परीक्षा के लिए आवेदन संख्या भी अलग-अलग प्राप्त थी, ऐसे विद्यार्थी अप्रेल परीक्षा के लिए दो प्रवेश पत्र आने पर यदि दोनों परीक्षाएं देता है तो उसका पात्रता निरस्त कर दी जाएगी। इससे संबंधित दिशा निर्देश प्रवेश पत्र में भी उल्लेखित हैं।

साथ ही जेईई-एडवांस्ड परीक्षा की पात्रता के लिए 21 हजार विद्यार्थियों की संख्या बढ़ाना, पहली बार 10 प्रतिशत अतिरिक्त ईडब्ल्यूएस आरक्षण लागू होना माना जा सकता है। जेईई-मेन एनटीए स्कोर के आधार पर एडवांस्ड देने की पात्रता कटआॅफ पर भी विद्यार्थियों की संख्या बढ़ने का प्रभाव पड़ेगा

Happy new year

1.

साल का आखरी दिन जरूर है पर मेरे और आपके संबंधों का नहीं ,, वह मजबूत किये हैं इस साल ने और आगे भी यह और मजबूत होंगे , ऐसा मुझे विश्वास है और मेरी इच्छाशक्ति भी यही रहेगी ,, आपके साथ संबंध, साथ, प्यार, आशीर्वाद, विश्वास और मेरे द्वारा की गई गलतियां और खताओं को नजर अंदाज व मुझे समझने के लिए दिल से धन्यवाद ,, साल बदलेगा मेरा आपसे संबंध नहीं, बस यही मेरा प्रयास रहेगा ,, प्यार बनाये रखें ।।।
नूतन वर्ष 2019 की
हार्दिक शुभकामनाएं
आप स्वस्थ रहें, प्रसन्न रहें और प्रगति करें।

2.

सज💘रही💘खुशियों💘की💘महफिल💘सज💘रहे💘खुशहाल💘सलामत💘रहे💘आपकी💘जिन्दगी💘मुबारक💘हो💘नया💘साल।।💘

3.

*समाप्त होते वर्ष में मेरे मन,कर्म ओर वाणी से यदि आपको ठेश लगी हो तो*
*मैं प्रिंस राय ह्रदय से क्षमा मांगता हूं*

*आपको ओर आपके पूरे परिवार को नव वर्ष 2019 की हार्दिक बधाई हो । ।*

Hindi jokes

1. वा रे जमाना
हार्वेस्टर वाला के
11 बीगा खेत 8 बीगा बताओ

ओर

लड़की वाला आये छोरो देखने तो
11 को 15 बिगा बताओ
डुबोगा रे तम डुबोगा
😀😀😀😀


2.अगर रात को किसी दोस्त का कॉल आ जाये तो,

घरवाले कमरे के बाहर ऐसे जासूसी करते है …..
.

.

.

जैसे मैं सारी गुप्त जानकारियां दुश्मन देश को दे रहा हूं..!!
😝😝😝

Hindi jokes

“गर्ल:- मैं तुम्हारे लिए आग पे चल सकती हूँ…

नदी में कूद सकती हूँ…

लड़का:- लव यू जानू..

क्या तुम मेरे यहां सोयाबीन काटने आ सकती हो ।
.
.
गर्ल:- पागल हो क्या इतनी धूप में…??”

लडका:- ए लापर रांड

😄😄😄😂😄

बहन बेटी

बहन बेटी

पर एक छोटी लघु कथा
जरूर 2 मिनट का समय जरूर निकले

*”रिश्ते”*

Prince ??????

*_पिताजी जोर से चिल्लाते हैं ।_*
प्रिंस दौड़कर आता है पूछता है…
क्या बात है पिताजी?

*पिताजी-* तूझे पता नहीं है आज तेरी बहन रश्मि आ रही है? वह इस बार हम सभी के साथ अपना जन्मदिन मनायेगी..अब जल्दी से जा और अपनी बहन को लेके आ।

हाँ और सुन…तू अपनी नई गाड़ी लेके जा जो तूने कल खरीदी है..उसे अच्छा लगेगा।

*प्रिंस -* लेकिन मेरी गाड़ी तो मेरा दोस्त ले गया है सुबह ही…और आपकी गाड़ी भी ड्राइवर ये कहके ले गया की गाड़ी की ब्रेक चेक करवानी है।

*पिताजी -* ठीक है तो तू स्टेशन तो जा कीसी की गाड़ी या किराया की करके? उसे बहुत खुशी मिलेगी ।

*प्रिंस -* अरे वह बच्ची है क्या जो आ नहीं सकेगी ?
टैक्सी या आटो लेकर आ जायेगी आप चिंता क्यों करते हो ….

*पिताजी -* तूझे शर्म नहीं आती ऐसा बोलते हुए ?
घर मे गाडी़यां होते हुए भी घर की बेटी किसी टैक्सी या आटो से आयेगी ?

*प्रिंस -* ठीक है आप जाओ मुझे बहुत काम है मैं नहीं जा सकता…

*पिताजी -* तूझे अपनी बहन की थोड़ी भी फिकर नहीं ?
शादी हो गई तो क्या बहन पराया हो गई ….
क्या उसे हम सबका प्यार पाने का हक नहीं ?
तेरा जितना अधिकार है इस घर में उतना ही तेरी बहन का भी है। कोई भी बेटी या बहन मायके छोड़ने के बाद वह पराया नहीं होती।

*प्रिंस -* मगर मेरे लिए वह पराया हो चुकी है और इस घर पे सिर्फ मेरा अधिकार है।
तडाक …अचानक पिताजी का हाथ उठ जाता है प्रिंस पर…
और तभी माँ भी आ जाती है ।

*मम्मी -* आप कुछ शरम तो कीजिये ऐसे जवान बेटे पर हाथ नहीं उठाते।

*पिताजी -* तुमने सुना नहीं इसने क्या कहा ? अपनी बहन को पराया कहता है ….
ये वही बहन है जो इससे एक पल भी जुदा नहीं होती थी हर पल इसका ख्याल रखती थी।
पाकेट मनी से भी बचाकर इसके लिए कुछ न कुछ खरीद देती थी। बिदाई के वक्त भी हमसे ज्यादा अपने भाई से गले लगकर रोई थी।
और ये आज उसी बहन को पराया कहता है।

*प्रिंस -*(मुस्कुराके) बुआ का भी तो आज ही जन्मदिन है पापा…
वह कई बार इस घर मे आई है मगर हर बार आटो से आई है..
आपने कभी भी अपनी गाड़ी लेकर उन्हें लेने नहीं गये…
माना वह आज वह तंगी मे है मगर कल वह भी बहुत अमीर थी आपको मुझको इस घर को उन्होंने दिल खोलकर सहायता और सहयोग किया है।
बुआ भी इसी घर से बिदा हुई थी फिर *रश्मि दी और बुआ मे फर्क कैसा।*
रश्मि मेरी बहन है तो बुआ भी तो आपकी बहन है।

कि तभी बाहर गाड़ी रूकने की आवाज आती है….
तब तक पापा प्रिंस की बातों से पश्चाताप की आग मे जलकर रोने लगे और इधर रश्मि भी दौड़कर पापा मम्मी से गले मिलती है.. लेकिन उनकी हालत देखकर पूछती है कि क्या हुआ पापा?

*पापा -* तेरा भाई आज मेरा भी पापा बन गया है ।

*रश्मि -* भाई की तरफ देखते हुए ऐ पागल…
नई गाड़ी न? बहुत ही अच्छी है… मैंने ड्राइवर को पीछे बिठाकर खुद चलाके आई हूँ और कलर भी मेरी पसंद का है।

*प्रिंस -* happy birthday to you दी…वह गाड़ी आपकी है और हमारे तरफ से आपको birthday gift..
बहन सुनते ही खुशी से उछल पड़ती है की तभी बुआ भी अंदर आती है ।

*बुआ -* क्या भैया आप भी न, ???
न कोई फोन न कोई खबर अचानक भेज दी गाड़ी….. भागकर आई हूँ खुशी से।
ऐसा लगा जैसे पापा आज भी जिंदा हैं…

*इधर पिताजी अपनी पलकों मे आंसु लिये प्रिंस की ओर देखते हैं और प्रिंस पापा को चुप रहने को इशारा करता है।*
इधर बुआ कहती जाती है कि मैं कितनी भाग्यशाली हूँ कि मुझे पिता जैसा भैया मिला,
ईश्वर करे मुझे हर जन्म मे आप ही भैया मिले…
पापा मम्मी को पता चल गया था कि …
ये सब प्रिंस की करतूत है मगर आज फिर एक बार रिश्तों को मजबूती से जुड़ते देखकर वह अंदर से खुशी से टूटकर रोने लगे। उन्हें अब पूरा यकीन था कि ..
मेरे जाने के बाद भी मेरा प्रिंस रिश्तों को सदा हिफाजत से रखेगा,…..

*_बेटी और बहन दो बेहद अनमोल शब्द हैं…_*
*_जिनकी उम्र बहुत कम होती है । क्योंकि शादी के बाद एक बेटी और बहन किसी की पत्नी तो किसी की भाभी और किसी की बहू बनकर रह जाती है।_*
शायद लड़कियाँ इसलिए मायके आती होंगी कि….
*उन्हें फिर से बेटी और बहन शब्द सुनने को बहुत मन करता होगा ।*

Life is short. Love & respect ur every relation

Status

*जिंदगी तुझसे हर कदम पर समझोता क्यों किया जाए,*
*शौक जीने का है, मगर इतना भी नहीं कि मर मर कर जिया जाए।*💞


  • *लौटा जब वो बिना जुर्म*

*की सजा पाकर….*

*सारे परिंदे रिहा कर दिए* *उसने घर आकर…..*


  • *😭💔👈ऐसा नहीं है की अब तेरी याद नहीं सताती…!!!*

.
.
*ख़ैर अब ऐसी कोई रात भी तो नहीं आती…!!!😭💔👈*


  • *😭💔👈जिन से मिल कर ज़िंदगी से इश्क़ हो जाए…!!!*

.

.

.*वो लोग आप ने शायद न देखे हों,मगर ऐसे भी हैं…!!!😭💔👈*


  • *मेरी झोली में कुछ दोस्त ..*

*और कुछ रिश्ते हैं ..💕*

*शुक्र ए मेरे मालिक,*
*उनमे कुछ आप जैसे फ़रिश्ते हैं ..!!💖


  • 🍁 ख़त कभी थे ही नहीं, कैसे जलाऊँ यादें…

फ़ोन महँगा है, जलाते हुये ____ फट जाती है…

😂😂😂😂


  • 😍😍😍 ख़त कभी थे ही नहीं, कैसे जलाऊँ यादें…

फ़ोन महँगा है, जलाते हुये ____ फट जाती है…

😂😂😂😂😍😍😍


  • 👑 दौलत 💰 तो #विरासत 👥 में #मिलती हैं ,

# लेकिन #पहचान 😎 #अपने# दम ?? पर #बनानी पडती है 👑 🔫


  • Only —– 🔫 *✍जीवन की कश्ती ने सोच-समझकर चलना यारो ,*

*जब चलती ..🚶है तो किनारा नही मिलता और जब डूबती 🏊🏻है तो सहारा नही मिलता।।✍*

आईआईटी जेईई

आईआईटी जेईई के लिए अच्छे से तैयारी करने को लेकर छात्रों पर खासा दबाव होता है. अगर स्टूडेंट्स कुछ प्वाइंट्स को ध्यान में रखकर तैयारी करें तो ये टिप्स उनके लिए काफी मददगार साबित होंगे. जानिए ऐसे ही टिप्स:

(1) अगर आपको एग्जाम में अच्छा स्कोर करना है तो आपको रोजाना 40-80 न्यूमेरिकल सवाल हल करने होंगे. इन सवालों में फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स के सवाल शामिल होने चाहिए. एग्जाम में अपनीपरफॉर्मेंस इंप्रूव करने के लिए सवालों को हल करने के लिए एक समयसीमा तय करें.

(2) फॉर्मूले और थ्योरी के प्रश्नों की तैयारी करना भी ना भूलें. आप खुद से विश्लेषण करें कि किन टॉपिक्स में आपसे गलती हो सकती है और कौन से टॉपिक्स आपका ज्यादा समय खर्च कर सकते हैं. उसी के अनुसार तैयारी करें.

(3) स्टूडेंट्स को टॉपिक्स की एक लिस्ट बना लेनी चाहिए और पेपर में दिए गए मार्क्स के अनुसार ज्यादा मार्क्स वाले टॉपिक्स की अच्छे से तैयारी करनी चाहिए

(5) न्यूमेरिकल सवालों को हल करने के लिए स्ट्रीमलाइन प्रोसेस को अपनाना चाहिए. इस प्रकार स्टेप बाई स्टेप सॉल्यूशन से लॉजिकल सवालों के हल करने में काफी मदद मिलती है.

लड़की का अपने प्रेमी

लड़की का अपने प्रेमी भेरू को लव लेटर❤📃
मेरे प्यारे भेरू😁
कल मेंने तुम्हें देखा
कल तुम पतरे के ऊपर उबे होकर मने देख रहे थे😇
मे बाड़े मे🐃🐃🐃🐄🐄
गाया ओर भेस बांध रही थी
मे तुम्हे देखकर दात काड रही थी😃😁😁थारी घनी याद आति है भेरू।
पर तु रास्ता मे जाते समय वेंडा हारी की हरकत मत करिया कर
मु कल बाई के हाथे बाज़ार मे 👥गी थी तने मारे बाज़ार जाती टेम कांकरा की का दी ।वणी कांकरा की मारी बाई के कमर मे लागी कमर हुजि गी
😃😃😃😃काले मु थारे 🏠 घर आ रही थी वणी टेम🐈 मिणकी रस्तो काटि गी तो मु पाची घर चली गी
ओर चिठी बाद मे लिखुगा मारे भेसा 🐃🐃🐃 ने चारो
नाखडो
चिठी को जवाब देजे 😁😁😁😁
थाकी
धापूड़ी

म्हारो प्यारो कुर्कुरियो भेरूजी

पश्चिमी philosophers

क्या आपने कभी इन पश्चिमी philosophers को पढ़ा है:
————-

1. लियो टॉल्स्टॉय (1828 -1910):

“किसी देश को बर्बाद करना हो तो वहां के लोगों को धर्म के नाम पर आपस में लड़ा दो, देश अपने आप बर्बाद हो जाएगा”।

2. हर्बर्ट वेल्स (1846 – 1946):

” हिंदुस्तान

एक बेहद प्रतिभाशाली देश है लेकिन जनता उतनी ही मूर्ख भी, वहां के लोग जाति-धर्म के नाम पर आपस में लड़कर अपने ही देश का नुक़सान कर रहे हैं”

3. अल्बर्ट आइंस्टीन (1879 – 1955):

“उस देश के विनाश को कोई नहीं रोक सकता जिस देश की सरकार में बैठे लोग ही अपनी जनता को सिर्फ़ वोट की खातिर डराना शुरु कर दें”।

4. हस्टन स्मिथ (1919):

“हिंदुस्तान की सबसे बड़ी कमज़ोरी उसके अपने लोग बने हुए हैं जो धर्म और जाति के नाम पर आपस में बंटकर अपने देश का दुर्भाग्य लिख रहे हैं”।

5. माइकल नोस्टरैडैम्स (1503 – 1566)

” किसी भी देश का शासक अगर अपनी जनता से ज़्यादा अपने वस्त्रों पर ध्यान दे तो समझ लीजिए कि उस देश की बागडोर एक बेहद कमज़ोर, सनकी और डरे हुए इंसान के हाथों में है”।

आज के वक्त में भी इन विचारकों की टिप्पणियां बेहद सटीक बैठती हैं